September 22, 2012

मुक्तक

हैरतों में ये उजाला पड़ गया
जुगनुओं के मुंह पे ताला पड़ गया
आपकी उजली हंसी को देखकर
चाँद का भी रंग काला पड़ गया

 
 ************************************

खिज़ा में भी फिज़ा के कुछ इशारे मिल ही जाते हैं
अँधेरी रात हो कितनी, सितारे मिल ही जाते हैं
जिसे तेरी मुहब्बत के सहारे मिल गए, उसको
बहुत हो तेज़ तूफां, पर किनारे मिल ही जाते हैं



*************************************

जाने क्यूँ झूठा तराना लिख रहे हो
मौसमों को आशिकाना लिख रहे हो
इक परिंदे सा क़फ़स में कैद हूँ मैं
आप इसको आशियाना लिख रहे हो!

8 comments:

  1. Replies
    1. बहुत ख़ूबसूरत सृजन, बधाई.

      कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें , अपना स्नेह प्रदान करें.

      Delete
  2. bahut badhiya ..ise hi roshni ki kiran talaashna kahte hain..

    ReplyDelete
  3. बहुत लाजवाब ,,, अंतिम मुक्तक तो बहुत कमाल का है साहिल जी ...
    बहुत दिनों बाद आपको पढ़ना हुवा ...

    ReplyDelete
  4. Waah Waah Waah saahil sahab !
    Ek se ek badhkar aur laajawaab muktak !!
    Likhte rahiye.
    Bahut si shubhkaamnaayen !!!

    ReplyDelete
  5. शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन.

    बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete


  6. ♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
    ♥नव वर्ष मंगबलमय हो !♥
    ♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥




    ♥ आपकी उजली हंसी को देखकर
    चाँद का भी रंग काला पड़ गया

    ♥ जिसे तेरी मुहब्बत के सहारे मिल गए, उसको
    बहुत हो तेज़ तूफां, पर किनारे मिल ही जाते हैं

    वाह ! वाऽह ! वाऽऽह ! क्या बात है !

    प्रियवर साहिल जी
    तीनों मुक्तक जबरदस्त हैं ...
    एक से बढ़कर एक !

    वैसे जनाब ! वर्ष भर में मात्र तीन पोस्ट्स !
    ज्यादती नहीं लगती यह अपने चाहने वालों के साथ ?

    :)
    नई ग़ज़ल का इंतज़ार रहेगा ...


    नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

    ReplyDelete
  7. यूँ ही आपके blog पर नज़र पड़ी.....
    बहुत सुन्दर रचनाएं..
    लिखना कम न करें.
    अनु

    ReplyDelete

यहाँ आने का और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियों से नवाज़ने का शुक्रिया!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...