April 27, 2011

OBO live पर पूर्वप्रकाशित!


अँधेरा है नुमायाँ बस्तियों में
उजाले कैद हैं कुछ मुट्ठियों में

ये पीकर तेल भी, जलते नहीं हैं
लहू भरना ही होगा अब दीयों में

फ़लक पर जो दिखा था एक सूरज
कहीं गुम हो गया परछाइयों में

तेरी महफ़िल से जी उकता गया है,
सुकूँ मिलता है बस तन्हाईयों में

लिए जाता हूँ कश, मैं फिर लिए हूँ
तेरी यादों की 'सिगरेट' उँगलियों में

उतरना ध्यान से दरिया में 'साहिल'

मगरमच्छ भी छुपे हैं, मछलियों में 


23 comments:

  1. उम्दा शेर ..... बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल ...
    हार्दिक बधाई...

    ReplyDelete
  2. उम्दा ग़ज़ल.......हर शेर बेहतरीन

    ReplyDelete
  3. वाह वाह
    हर शेर शानदार है

    ReplyDelete
  4. हरेक पंक्ति दिल को छू जाती है...लाज़वाब प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी ग़ज़ल ! हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  6. शानदार गजल। उतनी ही शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  7. ब्लॉग जगत में पहली बार एक ऐसा सामुदायिक ब्लॉग जो भारत के स्वाभिमान और हिन्दू स्वाभिमान को संकल्पित है, जो देशभक्त मुसलमानों का सम्मान करता है, पर बाबर और लादेन द्वारा रचित इस्लाम की हिंसा का खुलकर विरोध करता है. जो धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले हिन्दुओ का भी विरोध करता है.
    इस ब्लॉग पर आने से हिंदुत्व का विरोध करने वाले कट्टर मुसलमान और धर्मनिरपेक्ष { कायर} हिन्दू भी परहेज करे.
    समय मिले तो इस ब्लॉग को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच - हल्ला बोल
    हल्ला बोल के नियम व् शर्तें

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग जगत में पहली बार एक ऐसा सामुदायिक ब्लॉग जो भारत के स्वाभिमान और हिन्दू स्वाभिमान को संकल्पित है, जो देशभक्त मुसलमानों का सम्मान करता है, पर बाबर और लादेन द्वारा रचित इस्लाम की हिंसा का खुलकर विरोध करता है. जो धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले हिन्दुओ का भी विरोध करता है.
    इस ब्लॉग पर आने से हिंदुत्व का विरोध करने वाले कट्टर मुसलमान और धर्मनिरपेक्ष { कायर} हिन्दू भी परहेज करे.
    समय मिले तो इस ब्लॉग को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच - हल्ला बोल
    हल्ला बोल के नियम व् शर्तें

    ReplyDelete
  9. वाह...वाह...
    साहिल जी बहुत ही लाजवाब शे'र कहे हैं ....
    ख़ास कर दुसरा और पाँचवाँ बहुत ही प्रभावी है ....

    बधाई ....!!

    ReplyDelete
  10. श्रीमान जी, मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

    ReplyDelete
  11. क्या ब्लॉगर मेरी थोड़ी मदद कर सकते हैं अगर मुझे थोडा-सा साथ(धर्म और जाति से ऊपर उठकर"इंसानियत" के फर्ज के चलते ब्लॉगर भाइयों का ही)और तकनीकी जानकारी मिल जाए तो मैं इन भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने के साथ ही अपने प्राणों की आहुति देने को भी तैयार हूँ. आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी ग़ज़ल|धन्यवाद|

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब .. हर शेर नगीना है अपने आप में .... किसी एक को कोट करना आसान नही है ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  14. back after so long n this is the first ghazal i've read....overwhelmed....in no position to comment....

    :)
    thats all i got for ur day...a smile

    ReplyDelete
  15. प्रिय दोस्तों! क्षमा करें.कुछ निजी कारणों से आपकी पोस्ट/सारी पोस्टों का पढने का फ़िलहाल समय नहीं हैं,क्योंकि 20 मई से मेरी तपस्या शुरू हो रही है.तब कुछ समय मिला तो आपकी पोस्ट जरुर पढूंगा.फ़िलहाल आपके पास समय हो तो नीचे भेजे लिंकों को पढ़कर मेरी विचारधारा समझने की कोशिश करें.
    दोस्तों,क्या सबसे बकवास पोस्ट पर टिप्पणी करोंगे. मत करना,वरना......... भारत देश के किसी थाने में आपके खिलाफ फर्जी देशद्रोह या किसी अन्य धारा के तहत केस दर्ज हो जायेगा. क्या कहा आपको डर नहीं लगता? फिर दिखाओ सब अपनी-अपनी हिम्मत का नमूना और यह रहा उसका लिंक प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से
    श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी लगाये है.इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है.मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.
    क्या ब्लॉगर मेरी थोड़ी मदद कर सकते हैं अगर मुझे थोडा-सा साथ(धर्म और जाति से ऊपर उठकर"इंसानियत" के फर्ज के चलते ब्लॉगर भाइयों का ही)और तकनीकी जानकारी मिल जाए तो मैं इन भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने के साथ ही अपने प्राणों की आहुति देने को भी तैयार हूँ.
    अगर आप चाहे तो मेरे इस संकल्प को पूरा करने में अपना सहयोग कर सकते हैं. आप द्वारा दी दो आँखों से दो व्यक्तियों को रोशनी मिलती हैं. क्या आप किन्ही दो व्यक्तियों को रोशनी देना चाहेंगे? नेत्रदान आप करें और दूसरों को भी प्रेरित करें क्या है आपकी नेत्रदान पर विचारधारा?
    यह टी.आर.पी जो संस्थाएं तय करती हैं, वे उन्हीं व्यावसायिक घरानों के दिमाग की उपज हैं. जो प्रत्यक्ष तौर पर मनुष्य का शोषण करती हैं. इस लिहाज से टी.वी. चैनल भी परोक्ष रूप से जनता के शोषण के हथियार हैं, वैसे ही जैसे ज्यादातर बड़े अखबार. ये प्रसार माध्यम हैं जो विकृत होकर कंपनियों और रसूखवाले लोगों की गतिविधियों को समाचार बनाकर परोस रहे हैं.? कोशिश करें-तब ब्लाग भी "मीडिया" बन सकता है क्या है आपकी विचारधारा?

    ReplyDelete
  16. sigret se tulna kya khoon hai ati sunder
    badhai
    machhliyon me magarmachh sahi kaha aapne
    sunder gazal
    rachana

    ReplyDelete
  17. बहुत ख़ूबसूरत और शानदार ग़ज़ल लिखा है आपने! बधाई!

    ReplyDelete
  18. वाह साहिल साहब, क्या खूब शेर कहे हैं, एक एक शेर बेहतरीन...
    बहुत बहुत बधाई और ढेर सी शुभकामनायें कि आप बढ़िया से बढ़िया शायरी के मोती पिरोते रहें !!!

    ReplyDelete
  19. अँधेरा है नुमायाँ बस्तियों में
    उजाले कैद हैं कुछ मुट्ठियों में

    ये पीकर तेल भी, जलते नहीं हैं
    लहू भरना ही होगा अब दीयों में

    kamal ke sher kahe hain bhai......bahut achchi gazal

    ReplyDelete
  20. प्रिय बंधुवर 'साहिल' जी
    सस्नेहाभिवादन !

    बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल है ...
    एक-एक शे'र काबिले-तारीफ़ है .

    अँधेरा है नुमायाँ बस्तियों में
    उजाले कैद हैं कुछ मुट्ठियों में

    ये पीकर तेल भी, जलते नहीं हैं
    लहू भरना ही होगा अब दीयों में


    क्या बात है !

    लिए जाता हूँ कश, मैं फिर लिए हूँ
    तेरी यादों की 'सिगरेट' उँगलियों में

    ...और इस शे'र के लिए ख़ास मुबारकबाद !

    हार्दिक बधाई और शुभकामनाओं सहित

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  21. बढ़िया लिख रहे रहे हैं साहिल जी आप.
    अच्छे शेर कहे हैं ,keep it up.

    ReplyDelete
  22. बहुत खुबसूरत......अशआर.....शानदार अच्छा लगा पढ़ कर -

    कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए- (अरे हाँ भई, सन्डे को भी)

    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/


    एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

    ReplyDelete

यहाँ आने का और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियों से नवाज़ने का शुक्रिया!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...